Domain Registration ID: D414400000002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

कोरोना को हराना है : एक नहीं 8 मीटर दूर तक फैल सकता है कोरोना वायरस, रिसर्च में हुआ खुलासा , सुरक्षा के लिए अपनाएं ये रास्ता

कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से भारत में भी फैल रहा है और इसे देखते हुए 14 अप्रैल के बाद अब लॉक डाउन 2 में 3 मई तक के लिए लॉकडाउन को बढ़ाया गया है। हालांकि, प्रथम लॉक डाउन के बीच संक्रमित मामलों में भी तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है लेकिन अन्य देशों के मुकाबले भारत में संक्रमण फैलने की रफ्तार बहुत ही कम है। तो PM मोदी ने भी अपने 14 अप्रेल के सम्बोधन में बोले है की पुरे विश्व में जिस तरह से हाहाकार है उससे हमारा देश काफी हद तक सम्भला है हम सही समय पर सही निर्णय लिए है, वहीं, अब भारत लॉक डाउन के बाद कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर बनाई गई सोशल डिस्टेंसिंग पर नई गाइडलाइन का इंतजार कर रहा है।

अमेरिका में हुई एक रिसर्च में 1 अप्रैल 2020 को कोरोना वायरस के फैलने की दूरी के बारे में रिपोर्ट जारी करके नए नियमों में बदलाव की एक स्थिति उत्पन्न कर दी है जिसे देखते हुए हमें अभी से सतर्कता बरतनी शुरू कर देनी चाहिए।

​पहले जानें कहां हुई थी रिसर्च
कोरोना वायरस के संक्रमण का सबसे बुरा असर इस समय अमेरिका झेल रहा है और यही वजह है कि वह इस वायरस का तोड़ खोजने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है। इसी कड़ी में जब वहां के डॉक्टरों ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर यह जानना चाहा कि यह वायरस कितनी दूर तक फैल सकता है तो उन्होंने इस बारे में रिसर्च शुरू की। अमेरिका में शुरू हुई इस रिसर्च में विशेष डॉक्टरों की टीम लगी हुई थी और उन्होंने इस पर गहन अध्ययन किया। उसके बाद जो नतीजे आए वह सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बनाई गई दूरी पर चिंता जाहिर करने वाले थे।

​कैसे की गई रिसर्च
कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने की दूरी का सही पता लगाने के लिए डॉक्टरों की टीम के द्वारा बेहतरीन लेजर टेक्निक और कैमरे का इस्तेमाल किया गया। रिसर्च में ऐसे लोगों को शामिल किया गया जिनको खांसने और छींकने के लक्षण थे। उसके बाद इन लोगों पर लंबे समय तक रिसर्च की गई और देखा किया कि जब यह लोग खांसते और छींकते हैं तो इनके मुंह से निकली ड्रॉपलेट्स जिनमें वायरस भी मौजूद हो सकते हैं वह केवल एक या 2 मीटर की दूरी तक नहीं बल्कि आगे तक भी जा सकते हैं।

​कितनी दूरी तक फैल सकता है वायरस
कोरोना वायरस के संक्रमण पर जारी कि गई नई रिसर्च में यह बताया गया है कि यह वायरस करीब 8 मीटर की दूरी तक जा सकता है। ऐसे में आपको मास्क पहनने और उसके इस्तेमाल के साथ-साथ कई अन्य बातों पर भी सोचना चाहिए। इसके बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से कब तक नई गाइडलाइन जारी की जाएगी, यह कहना अभी मुश्किल है, लेकिन एहतियात के तौर पर आप कुछ हद तक सावधानी जरूर बरत सकते हैं।

​क्या करना होगा सही
फिलहाल अगर रिपोर्ट की मानें तो आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है बस आप कुछ सामान्य-सी बातों पर ध्यान दे सकते हैं। इसके लिए आप सावधानी के तौर पर मास्क पहनने के अलावा खांसने और छींकने वाले लोगों से ज्यादा से ज्यादा दूरी बना कर रखें। एक बात का और ध्यान दें कि आप खुद भी ऐसे लक्षणों से पीड़ित हों तो लॉकडाउन में सब्जी और दूध लेने भी बाहर न निकलें और जरूरत के हिसाब से चेक-अप करवाएं।

​अन्य दिशा-निर्देशों का कड़ाई से करें पालन
कोविड-19 के संक्रमण से बचे रहने के लिए बाकी अन्य सभी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन करें। अपने हाथों को धोना, किसी भी खांसने और छींकने वाले व्यक्ति के संपर्क में आने से बचना, माउथ मास्क को पहने रहना, सर्दी-खांसी के लक्षण दिखने पर खुद को घर में ही रखना जैसी बातों का गंभीरतापूर्वक पालन करें।

स्त्रोत – navbharattimes.indiatimes.com

SD TV (JAIN TV)

SD TV (MOVIE & ENTERTAINMENT)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *