Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

Please Play for Watching SD News Live TV (News + Entertainment)


कोविड जांच करवाने के लिए मरीजों की लग रहीं कतार, वेक्सीन लगवाने के बाद भी फैल रहा संक्रमण
झाबुआ। जिले में एक बार फिर कोरोना ने रफतार पकड़ ली है। कोविड के केस जिले में लगातार बढ़ते जा रहे है। जिले में वर्तमान में यह ऑकड़ा 250 पार पहुंच गया है। वहीं कोरोना से अब तक 27 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। दूसरी आरे कोविड के जांच करवाने के लिए जिला चिकित्सालय सहित जिले के स्वास्थ्य केंद्रों पर भी मरीजों की कतारे देखने को मिल रहीं है।
जिले में इन दिनों कोविड के प्रतिदिन 45-50 प्रकरण सामने आ रहे है। वहीं प्रतिदिन 150-200 मरीजों की यह जांच हो रहीं है। जिले में कोविड से वर्तमान से स्वयं जिला कलेक्टर, जिला न्यायाधी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, जिला टीकाकरण अधिकारी सहित जिले के कई चिकित्सक, स्वास्थ्य कर्मी, पुलिसकर्मी, कई प्रतिष्ठित व्यापारी, राजनीति क्षेत्र से जुड़े लोग आदि सक्रमित होकर अपना उपचार करवा रहे है। कोरोना की जिला नोडल अधिकारी डॉ. प्रिया शर्मा ने बताया कि 7 अप्रेल, बुधवार 12 बजे तक जिले में कोविड के कुल 259 केस होने के साथ, बुधवार को दिनभर में 49 केस आए। इसके साथ ही जिले में वर्तमान में कोविड की 374 रिपोर्ट प्रतिक्षारत है।
वेक्सीन लगवाने के बाद भी संक्रमण फैल रहा
एक ओर कोविड का प्रकोप जिले में फिर से तेजी से बढ़ने लगा है तो दूसरी ओर कोविड से रोकथाम हेतु वेक्सीन लगवाने के बाद भी जिले में कई ऐसे लोग है, जो कोरोना पॉजिटीव पाए गए है। जिससे कोविड से बचाव का यह वेक्सीन भी कई बार मतलबी साबित हो रहा है। जिला चिकित्सालय के सामने फीवर क्लिनिक सहित जिले के अन्य स्वास्थ्य केंद्रों पर भी पर मरीजों की कोविड की जांच करने के लिए कतारे देखने मिल रहीं है। वहीं फीवर क्लिनिक के पास ही जो कोविड से रोकथाम का टीकाकारण केंद्र बनाया गया है। वहां भी 45 वर्ष और इससे अधिक उम्र के व्यक्तियां, महिला-पुरूषों की वेक्सीन लगवाने के लिए भीड़ दिखाई पड़ रहीं है।
ना बनाए जा रहे माईक्रो कंटनमेंट एरिया और ना ही आ रहीं समय पर रिपोर्ट
उधर जिले के कई जागरूक नागरिकों का कहना है कि जिस तरह से जिला कलेक्टर रोहित सिंह के पूर्व में जो व्यक्ति कोरोना पॉजिटीव पाया जाता है, उस घर को कंटनमेंट एरिया के तहत सील कर सूचना चस्पा करने के निर्दे थे, जिसका पालन नहीं होने के साथ कई मरीजों की रेपिड टेस्ट और अन्य जरूरी जांच रिपोर्ट भी समय पर नहीं आने से उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। विषकर जिले के ग्रामीण क्षेत्रां में अब भी 45 वर्ष से अधिक उम्र के महिला-पुरूषों में वेक्सीन लगवाने के साथ कोविड की जांच करवाने को लेकर भी अमसंजस और भ्रम की स्थिति बनी हुई है। जिसे जिला प्रासन और स्वास्थ्य विभाग को जागरूकता लाकर दूर किया जाना बहुत जरूरी है।


फोटो 003 -ः जिला चिकित्सालय के सामने फीवर क्लिनिक पर कोविड जांच के लिए लगी मरीजों की कतार।


फोटो 004 -ः समीप ही कोविड सेंटर पर वेक्सीन लगवाने के लिए भी दिख रहीं भीड।


फोटो 005 -ः 45 वर्ष से अधिक उम्र के दिव्यांग व्यक्ति ने कोविड से रोकथाम हेतु वेक्सीन लगवाकर दिया जागरूकता का परिचय।

Leave a Reply