Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

Please Play for Watching SD News Live TV (News + Entertainment)

डोर टू डोर पेट्रोल-डीज़ल बेचकर कमा सकते हैं करोड़ों में


डोर टू डोर पेट्रोल-डीज़ल बेचकर कमा सकते हैं करोड़ों में

How to start a business in India: अगर आपके कोई कारोबार (Business) शुरू करना चाहते हैं तो आप ऑनलाइन फ्यूल (online fuel business) बेचकर करोड़ों में कमाई कर सकते हैं. इसके लिए इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (IOC), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लि. (BPCL), पेट्रोलियम प्रोसेस इंजीनियरिंग सर्विस को. (PESCO) जैसी तेल कंपनियां मदद करेगी.

नई दिल्ली. अगर आपके कोई कारोबार (Business) शुरू करना चाहते हैं तो आप ऑनलाइन फ्यूल (online fuel business) बेचकर करोड़ों में कमाई कर सकते हैं. इसके लिए इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (IOC), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लि. (BPCL), पेट्रोलियम प्रोसेस इंजीनियरिंग सर्विस को. (PESCO) जैसी तेल कंपनियां मदद करेगी. इसके अलावा आप सरकार से मदद ले सकते हैं. इसके लिए हमने स्टार्टअप कंपनी पेपफ्यूल डॉट काॅम (startup Pepfuel.com) से बात की तो आइए जानते हैं उन्हीं से कि कैसे आप डोर-टू-डोर फ्यूल बेचने का कारोबार कर सकते हैं.सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त स्टार्टअप
पेपफ्यूल डॉट काॅम (Pepfuel.com)सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त स्टार्टअप है. पेपफ्यूल्स का इंडियन ऑयल के साथ थर्ड पार्टी एग्रीमेंट है. यह डोर-टू-डोर डिलीवरी (online diesel delivery) के लिए है. इस ऐप पर ग्राहक ऑनलाइन या मैसेज के जरिए ऑर्डर कर सकते हैं. नोएडा के टिकेन्द्र, प्रतीक और संदीप तीनों ने मिलकर इसे स्टार्ट किया है. कारोबार शुरू के कुछ सालों बाद की इनकी कंपनी का सालाना टर्नओवर 100 करोड़ के आसपास पहुंच गया.

ये भी पढ़ें- Top Saving Schemes: इन 5 स्कीम्स में लगाएं पैसे! डबल मिलेगा मुनाफा, टैक्स भी बचेगाजानें, कैसे शुरू किया कारोबार
दिल्ली-एनसीआर के लोगों से लिया फीडबैक
स्टार्टअप के फाउंडर टिकेन्द्र बताते हैं कि इस पर काफी रिसर्च किया. घर-घर जाकर लोगों से बात की और ऑनलाइन फीडबैक लिया. फीडबैक में बता चला हर दूसरे आदमी ने यही कहा कि पेट्रोल-डीजल के लिए ऑनलाइन ऐप होना चाहिए. हालांकि, पेट्रोल-डीजल की ऑनलाइन डिलीवरी का कारोबार शुरू करना काफी रिस्की है. टिकेन्द्र बताते हैं कि 2016 तक देश में पेट्रोल डिलीवरी की परमिशन नहीं थी. हाल ही में सरकार ने इसकी इजाजत दी है. उस वक्त हमारे सामने सिर्फ डीजल डिलीवरी ही एकमात्र विकल्प था. हमने डीजल की डिलीवरी पर ही काम शुरू कर दिया.ये भी पढ़ें- ICICI Bank दे रहा सस्ते में खरीदारी का मौका! ज्वेलरी पर 10,000 तो इलेक्ट्रॉनिक्स सामान पर 20,000 की होगी बचत

तेल कंपनियों से मिला सहयोग
कंपनी के एक अन्य फाउंडर संदीप बताते हैं, ‘हमने इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (IOC), भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लि. (BPCL), पेट्रोलियम प्रोसेस इंजीनियरिंग सर्विस को. (PESCO) जैसी तेल कंपनियों को अपना-अपना सुझाव भेजा. साथ ही हमने अपने-अपने स्टार्टअप का आइडिया PMO को भी भेजा था. कुछ दिनों बाद ही हमें PMO से जवाब आ गया था. दूसरी, तरफ फरीदाबाद स्थित इंडियन ऑयल की तरफ से भी हमें हमारे कारोबार का डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट यानी DPR सौंपने को कहा गया.’ वे कहते हैं, हमने अपने प्रोजेक्ट की DPR इंडियन ऑयल को भेजी. अप्रूवल मिलने के बाद हमने अपना कारोबार शुरू कर दिया.







Source by [author_name]

Avatar

Leave a Reply