Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

Please Play for Watching SD News Live TV (News + Entertainment)


झाबुआ। जिले के झकनावदा क्षेत्र में राष्ट्रीय पक्षी मोरों की संख्या करीब 400 है, लेकिन इस और किसी भी शासन-प्रशासन या जनप्रतिनिधि का ध्यान आकर्षित नहीं है। वर्तमान में भीषण गर्मी के चलते पेयजल समस्या भी गहराती जा रही है। इसी के चलते राष्ट्रीय पक्षी मोर दाना-पानी के जुगाड़ में रोड पर आ जाते है और जंगली जानवर बिल्ली, श्वान आदि का शिकार हो जाते हैं। ?
इस हेतु राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के प्रतिनिधि प्रदेश अध्यक्ष मनीष कुमट (जैन) ने अपने लेटर पेड पर झकनावदा क्षेत्र में पधारे सांसद गुमान सिंह डामोर को ज्ञापन सौंपा। जिसमें उल्लेख किया गया कि झकनावदा क्षेत्र में मोरों की संख्या करीब 400 है। इन मूक प्राणियों के लिए मोर अभ्यारण केंद्र बनवाने की मांग रखी। ज्ञापन में बताया कि पूर्व में तत्कालीन कलेक्टर आशीष सक्सेना को मोर अभ्यारण केंद्र हेतु लिखित में अवगत करवाया गया था। बाद उन्होंने फरेस्ट विभाग को यह मामला सौंपा था, लेकिन इस ओर किसी भी वरिष्ठ अधिकारी का ध्यान आकर्षित नहीं हुआ। यदि ऐसा ही चलता रहा तो राष्ट्रीय पक्षी मोर धीरे-धीरे विलुप्त होते जाएंगे या आने वाली पीढ़ी राष्ट्रीय पक्षी मोर को केवल किताबों में ही देख-पढ़ पाएगी।
यह रहे उपस्थित
ज्ञापन सौंपते समय सांसद प्रतिनिधि राजेश कांसवा, रेलवे सलाहकार समिति सदस्य अनिल मुथा, मंडल अध्यक्ष शांतिलाल मुनियां, प्रदीप पालरेचा, परीक्षितसिंह राठौड़, उत्तम गहलोत, जयंतीलाल कोटडि़या, संजय व्यास, हेमेंद्र कुमार जोशी, नारायण राठौर, विकास जोशी, बबलू मंडोत, पूनम चंद कोठारी आदि भाजपा पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे।


फोटो 005 -ः क्षेत्रीय सांसद श्री डामोर को ज्ञापन सौंपते राष्ट्रीय मानवाधिकार एवं महिला बाल विकास आयोग के पदाधिकारीगण।

Avatar

Leave a Reply