Domain Registration ID: D414400000002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

कोरोना पर कलक्टर मैडम की क्लास वायरस संक्रमण बचाव पर अधिकारियों से की विस्तृत चर्चा बनाई रणनीति, दिए महत्त्वपूर्ण निर्देश


उदयपुर, /जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी ने अपने चंेबर में बोर्ड पर विभिन्न 21 बिंदुओं पर करीब दो घंटे तक संबंधित अधिकारियों से चर्चा की और आगामी दिनों के लिए रणनीति तैयार की।
कलक्टर श्रीमती आनंदी ने जिले के विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर लोगों को एकत्र होने से रोकने, अन्य राज्यों व विदेशों से आने वाले लोगों के चिह्नीकरण, उनकी स्क्रीनिंग और अन्य एहतियाती उपायों पर अधिकारियों से चर्चा कर कई महत्त्वपूर्ण निर्णय लिए।
कलक्टर ने कहा कि लोगों में इस वायरस के संक्रमण के कारणों के बारे में स्पष्ट जानकारी पहुंचे और लोग यह महसूस करें  कि एक स्थान पर पांच से अधिक लोगों के एकत्र होने से इसके संक्रमण की संभावना बढ़ती है, तभी हम कोनोवायरस को हरा सकते हैं। बैठक में जिला पुलिस अधीक्षक कैलाश विश्नोई, नगर निगम आयुक्त अंकित कुमार सिंह, प्रशिक्षु आईएएस शुभमंगला, यूआईटी सचिव अरूण कुमार हासिजा, अतिरिक्त कलक्टर ओ.पी.बुनकर व संजय कुमार, यूआईटी ओएसडी विनय कुमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश खराड़ी सहित रोडवेज, रिको, नियंत्रण कक्ष और अन्य संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।  
अन्तर्राज्यीय मुख्य सड़कों पर लगेंगी चैकपोस्ट:  
बैठक में जिला कलक्टर ने अधिकारियों से चर्चा उपरांत जिले में अन्य राज्यों से आने वाले यात्रियों के साथ-साथ अन्य राज्यों के एयरपोर्ट से आने वाले स्थानीय व विदेशी नागरिकों की सूचना एकत्र करने के उद्देश्य से अन्तर्राज्यीय सड़कों पर प्रादेशिक परिवहन अधिकारी कार्यालय के निर्देशन में चैकपोस्ट स्थापित करने की व्यवस्था के लिए निर्देश दिए। उन्होंने यहां पर यात्रियों से सूचना प्राप्त करने के संबंध में कार्ययोजना तैयार करने को भी कहा।
संडे हाट बाजार होगा बंद:
कलक्टर ने धारा 144 के निर्देशों की सख्ती से अनुपालना सुनिश्चित करने की दृष्टि से रेती स्टेण्ड पर लगने वाले संडे हाट बाजार को भी बंद करने के निर्देश दिए हैं। इसी प्रकार उन्होंने मण्डी में बड़ी संख्या में खरीदारों और विक्रेताओं की मौजूदगी के दौरान बीस से अधिक व्यक्तियों के एक स्थान  पर एकत्र नहीं होने देने के संबंध मेें लाउड स्पीकर्स के माध्यम से सूचित करने व होमगार्ड लगाने संबंधी आवश्यक व्यवस्थाएं करने के लिए निर्देश दिए। कलक्टर ने शहर में विभिन्न स्थानों पर ठेलेवालांे के पास-पास खड़े होने की स्थितियों पर भी निर्देश दिए कि इन्हें दूर-दूर खड़े रहने के लिए पाबंद करें।
लाउड स्पीकर्स से लोगों को करें जागरूक:
बैठक में कलक्टर ने कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव की दृष्टि से लोगों को जागरूक करने के लिए ऑडियो संदेश तैयार करने और इनका लाउड स्पीकर्स के माध्यम से बस स्टेण्ड, रेल्वे स्टेशन और शहर के प्रमुख सार्वजनिक स्थलों पर लगातार प्रसारण करने के निर्देश दिए।
–000–

फतहसागर पाल पर 31 तक प्रवेश निषेध
उदयपुर, /कोरोना वायरस से बचाव के संबंध में राज्य सरकार द्वारा जारी आदेशों के क्रम में यूआईटी क्षेत्राधिकार स्थित पर्यटन स्थल फतहसागर की पाल पर 31 मार्च तक आमजन का प्रवेश निषेध रहेगा। यूआईटी सचिव अरूण कुमार हसीजा ने इस व्यवस्था को बनाए रखने के लिए अधिशाषी अभियंता गेहरीलाल शर्मा को प्रभारी व सहायक अभियंता चतरसिंह चौहान को सहायक प्रभारी नियुक्त किया है।
–000–
कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव के लिए जिले में धारा 144 लागू
उदयपुर, /कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव के उद्देश्य से जिला मजिस्ट्रेट श्रीमती आनन्दी ने दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए उदयपुर जिले के सम्पूर्ण सीमा क्षेत्र में 20 से अधिक व्यक्ति एक स्थान पर एकत्रित नहीं होने, का प्रतिबंध लगा दिया है।
इस प्रतिबंध से रेलवे स्टेशन, बस स्टेण्ड, चिकित्सकीय संस्थान, राजकीय व सार्वजनिक कार्यालय तथा विद्यालय व महाविद्यालयों में प्रयुक्त होने वाले परीक्षा कक्ष स्थानों को अपवाद स्वरूप मुक्त रखा जाएगा। आदेशानुसार इन स्थानों के अतिरिक्त किसी भी स्थान पर असाधारण परिस्थिति में जिला मजिस्ट्रेट एवं उपखण्ड क्षेत्र के लिए संबंधित उपखण्ड मजिस्ट्रेट से विशेष अनुमति प्राप्त करनी होगी। उन्होंने बताया कि यह आदेश आगामी 31 मार्च की मध्यरात्रि तक प्रभावी रहेंगे। साथ ही इस निषेघाज्ञा की अवहेलना या उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के अंतर्गत अभियोग चलाए जाएंगे।
गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा कोरोना संक्रमण को महामारी घोषित करने तथा राजस्थान सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण की स्थिति को ध्यान में रखते हुए सभी जिलों में धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी करने के निर्देश प्रदान किए गए है।
–000–
झुंझुनूं से उदयपुर लौटे व्यक्तियों को आगमन की सूचना देने के निर्देश
उदयपुर, /जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के उद्देश्य से जिला प्रशासन द्वारा पूरी सतर्कता बरती जा रही है। इसी क्रम में झंुझुनू से उदयपुर आने वाले व्यक्तियों को अपने आगमन की सूचना नियंत्रण कक्ष पर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।
जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी ने बताया कि जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के एहतियाती उपायों को सुनिश्चित करने की दृष्टि से यह जरूरी है कि जो भी व्यक्ति झुंझुनूं शहर की यात्रा करने के बाद उदयपुर लौटे वह कोरोना वायरस की रोकथाम व शिकायतों के लिए स्थापित किए गए नियंत्रण कक्ष के दूरभाष नंबर 0294-2414620 पर सूचित करें। कलक्टर ने स्पष्ट किया कि चाहे उन व्यक्तियों में सर्दी, जुकाम और बुखार के लक्षण हो या न हो परंतु ऐहतियात के तौर पर वे अपनी झुंझुनू यात्रा के बारे में नियंत्रण कक्ष को अपने पते और मोबाईल नंबर के साथ अवगत करावें।  
–000–
मास्क और सैनीटाइजर की कालाबाजारी पर होगी कार्यवाही
कलक्टर ने कंट्रोल रूम पर शिकायत दर्ज कराने के दिए निर्देश
उदयपुर जिले में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए चलाए जा रहे अभियान के तहत मास्क और सैनीटाइजर के नहीं मिलने तथा अधिक दरों पर बिक्री किए जाने की शिकायतों को जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी ने गंभीरता से लिया है और आमजनों को इस संबंध में शिकायत नियंत्रण कक्ष पर दर्ज कराने को कहा है।
कलक्टर ने बताया कि जिले में किसी विक्रेता द्वारा उपलब्ध होने पर भी मास्क व सैनीटाइजर नहीं दिए जाने अथवा अधिक दरों पर दिए जाने की शिकायत जिला प्रशासन द्वारा स्थापित नियंत्रण कक्ष के   दूरभाष नंबर 0294-2414620 पर की जा सकती है।
–000–
रसद विभाग की कार्यवाही
मास्क पैकेट पर आवश्यक जानकारी नहीं मिलने पर प्रकरण दर्ज
उदयपुर, /कोरोना वायरस के संबंध में प्राप्त दिशा-निर्देशों के क्रम में जिला कलक्टर श्रीमती आनंदी द्वारा गठित टीम द्वारा गुरुवार को शहर में विभिन्न स्थानों पर छापे मारे गए और अनियमितता पाए जाने पर कार्यवाही की गई।
जिला रसद अधिकारी ज्योति ककवानी ने बताया कि संभागीय उपभोक्ता संरक्षण अधिकारी जयमल राठौड, औषधी नियंत्रक अधिकारी धीरज शर्मा व प्रवर्तन अधिकारी रामचन्द्र त्रिपाठी के दल द्वारा हजारेश्वर कॉलोनी स्थित लक्ष्मी फार्मा के विरूद्ध विधिक माप विज्ञान (डिब्बा बंद वस्तुएं) नियम, 2011 के नियमों के तहत कार्यवाही की गई। इस दौरान लक्ष्मी फार्मा पर उपलब्ध मास्क पैकेटों पर पैकेज कमोडिटी रूल्स 2011 के प्रावधानों के तहत पैकेज पर घोषणाओं जैसे निर्माता का नाम, निर्माण की तिथी, शिकायत की स्थिति में टोल फ्री नम्बर, बेच नम्बर, एमआरपी आदि का अंकन नहीं होने से विधिक माप विज्ञान अधिकारी, उदयपुर द्वारा फर्म के विरूद्ध प्रकरण भी दर्ज किया गया।
–000–
सोशल मीडिया पर कोरोना संबंधित अपुष्ट सूचना फैलाना अपराध
उदयपुर, /चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस के संक्रमण के संबंध में सोशल मीडिया में फैलाई जा रही अपुष्ट जानकारियों को गंभीरता से लिया है और इसे महामारी बीमारी अधिनियम 1867 तथा राजस्थान महामारी अधिनियम 1957 के तहत जारी नियमों में आपराधिक कृत्य माना है।
अतिरिक्त जिला कलक्टर (प्रशासन) ओ.पी. बुनकर ने बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा इसकी गंभीरता को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं कि कोई भी व्यक्ति संस्था अथवा संगठन कोरोना वायरस के संबंध में किसी भी प्रकार की सूचना बिना चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की अनुमति के प्रिंट इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया पर जारी ना करें।
उन्होंने बताया कि यदि कोई व्यक्ति संस्था अथवा संगठन इस प्रकार की गतिविधि को अंजाम देते हो पाया गया तो इसे जुर्म मानते हुए उनके विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *