Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008
Home

[ad_1]

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी में लखनऊ विकास प्राधिकरण (LDA) की वेबसाइट की सिक्योरिटी और रखरखाव का जिम्मा उठा रही एजेंसी ने खुद करोड़ों का घोटाला किया। एजेंसी ने अलग-अलग योजनाओं के 499 प्लॉटों के रेकॉर्ड में फर्जीवाड़ा कर लाखों की काली कमाई की। मामले में अफसर और कर्मचारियों की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। संयुक्त सचिव की जांच रिपोर्ट के आधार पर एजेंसी डीजी टेक प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ अजीत मित्तल और सेवा इंजीनियर दीपक मिश्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है।इसके साथ ही एलडीए कंप्यूटर सेल के इंचार्ज एसबी भटनागर को फस्र्टष्टया दोषी मानते हुए आरोप पत्र थमा दिया गया। यही नहीं इस मामले में कंप्यूटर सेल के इंचार्ज सहित अन्य कर्मचारियों की भूमिका की विभागीय जांच का आदेश करते हुए सचिव पवन गंगवार को जांच अधिकारी बना दिया गया है।

नाम बदलने के बाद प्लाटों में किया गया बदलाव

पिछले साल अक्टूबर महीने में कंप्यूटर सेल के इंचार्ज एसबी भटनागर की आईडी से लगभग 50 प्लॉटों के रेकॉर्ड बदलकर फर्जीवाड़ा हुआ था। अपनी आईडी से रेकॉर्ड बारी जाने की जानकारी होने पर मामले की शिकायत खुद एसबी भटनागर ने सचिव और वीसी को की थी। इसके बाद वीसी ने संयुक्त सचिव ऋतु सुहास को जांच अधिकारी बना मामले की जांच में साइबर सेल को भी लगा दिया था। फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स की भी मदद ली गई थी।जांच के दौरान केवल 449 अन्य प्लॉटों के रेकॉर्ड में भी हेरफेर का खुलासा हुआ है। यह ऐसे प्लॉट थे, जिनमें नाम बदलने के बाद बदलाव किए गए थे। संयुक्त सचिव ने शुक्रवार को अपनी रिपोर्ट वीसी को सौंपी। जिसके तुरंत बाद वीसी अभिषेक प्रकाश ने सबसे पहले एजेंसी के खिलाफ एफआईआर उपलब्ध कराने का आदेश जारी किया।

विभाग को करोड़ों की चपत लगी

गोमती नगर थाने में करायी गई एफआईआर के मुताबिक एलडीए के रेकॉर्ड बदलकर करोड़ों रूपए की कमाई की आशंका जतायी गई है। आरोप है कि एजेंसी ने एलडीए की तरफ से वेबसाइट के रख-रखाव के लिए तैनात विभागीय अधिकारी और कर्मचारियों को मिलीभगत कर यह फर्जीवाड़ा किया। संगठित तरीके से कंप्यूटर में कंप्यूटरों से जुड़े आत्मविश्वास रेकॉर्ड बदल गए सनियों के मूल दस्तावेजों में नाम, पते सहित भुगतान के रेकॉर्ड में भी हेरफेर कर उसकी जगह दूसरे दोस्तों के नाम चढ़ गया है। इससे महकमे का करोड़ों का नुकसान हुआ।

कई कर्मचारियों को छोड़ दिया

कंप्यूटर सेल के इंचार्ज एसबी भटनागर को आरोप पत्र जारी करने के अलावा कई कर्मचारी स्कैनर पर हैं। कंप्यूटर सेल और संपत्ति विभाग में तैनात कई कर्मचारियों को जांच के दायरे में लाया गया है। माना जा रहा है कि विभागीय जांच कर रही पवन गंगवार की रिपोर्ट आने के बाद इन सब पर बड़ी कार्यवाही हो सकती है।



[ad_2]

Source by [author_name]

Avatar

Leave a Reply