Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

Please Play for Watching SD News Live TV (News + Entertainment)

Home

[ad_1]

कानपुर। प्रेमी-प्रेमिकाओं (जानेमन) के त्योहार वेलेंटाइन डे (वेलेंटाइन डे) के मौके पर कानपुर (कानपुर) में एक ऐसी ही अनोखी प्रेम कहानी लोगों की चर्चा का विषय बनी हुई है। जहां प्यार में न उम्र की परवाह की गयी, न जाति और समाज के लोगों की। इस अनोखे प्यार की शुरूआत तब हुई जब युवक महिला की बेटी की शादी में शरीक होने वाला था। पहली मुलाकात के बाद दोनों ऐसा प्यार हुआ कि वह सब कुछ भूल कर एक हो गया। जाति, उम्र और समाज के बंधनों को तोड़ उन्होंने शादी कर ली।बता दें कि कानपुर निवासी समाजसेवी बिंदू सिंह और प्राइवेट काम करने वाले बेस्ट तिवारी का लव अफेयर कैसे सात जन्मों के बंधन में बंध गए। दरअसल बिंदू के पति की मौत 2008 में हो गई थी। जिसके बाद उन्होंने अपनी बेटी को पढ़ाया काबिल बनाया। बेटी की शादी उन्होंने 2017 में की था। बेटी की शादी के समारोह में ही सबसे अच्छे अपने दोस्तों के साथ शामिल होने गया था। अपनी उम्र से कई साल बड़े और बेवा बिंदु से उनकी मुलाकात यहीं पर हुई। जिसके बाद दोनों में दोस्ती हो गई।

विरोध के बावजूद 2018 में शादी
बिंदू बीमार हुए तो बेस्ट ने दोस्त से बढ़ कर उनकी मदद की। उनकी दोस्ती कब प्यार में बदल गई उन्हें पता नहीं चला। सर्वोत्तम ने बिंदू से अपने प्यार का इजहार किया तो उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया। जिसके बाद दोनों ने शादी करने का फैसला किया। दोनों के ही परिवार वाले इस बेमेल शादी के लिए तैयार नहीं थे। सभी विरोधों को दरकिनार कर दोनों ने 2018 में शादी कर ली। सर्वोत्तम अब बिंदू के परिवार के साथ रहते हैं और दोनों काफी खुश हैं।

जिन्दगी में नया मोड़ आया

बिंदू सिंह का कहना है कि वह अपनी शादी के बाद काफी खुश हैं। उनका कहना है कि सर्वोत्तम के मिलने के बाद जिन्दगी में नया मोड़ आ गया। हीन एजर्स वाला प्यार नहीं किया। हमारी शादी लोगों के लिए मिसल है। विधवा होने के बाद जीवन खत्म नहीं हो जाता है। अपनी उम्र से बड़ी, बेवा और एक शादीशुदा बेटी की मां से शादी करना सर्वोत्तम के लिए आसान नहीं था। सर्वोत्तम के घर वालों ने इस शादी को स्वीकार नहीं किया।

बेटी- दमाद करते हैं प्यार करते हैं
बिंदू और श्रेष्ठ की शादी से पहले बिंदू की बेटी की शादी हो चुकी थी। ऐसे में बिंदू की बेटी और दमाद ने भी दोनों की शादी को स्वीकार कर लिया। अपनी उम्र से कुछ छोटी बेटी और दमाद को पाकर सर्वश्रेष्ठ काफी खुश हैं। सर्वोत्तम का कहना है कि बेटी और दमाद उन्हें काफी प्यार करते हैं। वह भी दोनों को अपनी बेटी दमाद मानते हैं और एक साथ परिवार के रूप मे रहते हैं। सर्वोत्तम का कहना है कि उसने शादी ही नहीं की थी। बिंदू के जिन्दगी में आने के बाद शादी करने का फैसला लिया। इस शादी की वजह से कई अपने रूठ गए। शादी के लिए उम्र का कोई मतलब नहीं है, उम्र महज एक आकड़ा है। संबंध में प्रेम भाव, अर्पण और आपसी तालमेल होना चाहिए।



[ad_2]

Source by [author_name]

Avatar

Leave a Reply