Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008
Home

[ad_1]

पट पट। बिहार में पिछले 5 दिनों से शीत लहर (शीत लहर) का प्रकोप जारी है और 3 फरवरी तक लोगों को ठंड से राहत नहीं मिलने की उम्मीद नहीं है। मौसम विभाग (मौसम विभाग) ने भविष्यवाणी जताते हुए कहा है कि उत्तर पश्चिमी हवा के प्रभाव की वजह से न्यूनतम तापमान में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है और पटना में ठंड ने पिछले 10 वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। रविवार को पटना (पटना) का न्यूनतम तापमान 3.1 डिग्री रहा, जो कि विगत दस वर्षों में दूसरे स्थान पर रिकॉर्ड किया गया है। वहीं, गया का न्यूनतम तापमान 3.4 डिग्री रिकॉर्ड हुआ है। इसके अलावा आरा-बक्सर, भागलपुर और मुजफ्फरपुर के लोग भी ठंड से बेहाल हैं। जमुई में 8.5, बक्सर में 7.5 शिवहर में 8.2, वाल्मिकीनगर में 6, भोजपुर 6.8 डिग्री, पूर्णिया में 9.9, मुजफ्फरपुर में 9.6, छपरा में 7.1, सुपौल में 8.2 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है।हालांकि, ठंड की वजह से जनजीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त है और शाम ढलते ही खासकर गरीबों और राहगीरों की मुसीबतें बढ़ने लगती हैं। शीत लहर को देखते हुए पटना जिला प्रशासन के निर्देश पर रविवार को 127 स्थानों पर अलाव जलाए गए हैं, लेकिन इस ठंड में सरकारी इंतजाम भी नाकाफी साबित हो रहे हैं। हालांकि मौसम विभाग ने 4 फरवरी के बाद पुरवा हवा से ठंड में कमी आने की संभावना जताई है।

यह भी पढ़ें- बड़ी खबर: सीएम नीतीश कुमार से मिले उपेंद्र कुशवाहा, जानें जानें मचा है बवाल?

मौसम विभाग ने कही यह बात

मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो दिन में मौसम शुष्क रहने की वजह से न्यूनतम तापमान में हल्की वृद्धि देखी जा रही है, लेकिन रात में तापमान में भारी गिरावट हो रही है जिससे सावधानी बरतने की भी जरूरत है। इसके अलावा ठंड की वजह से ब्रेन स्ट्रॉक और लकवा सहित कई बीमारी के भी लोग शिकार हो रहे हैं। यही नहीं, अस्पतालों में ब्रेन स्ट्रॉक और लकवा के मरीजों में इजाफा देखने को मिल रहा है।



[ad_2]

Source by [author_name]

Avatar

Leave a Reply