Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

Please Play for Watching SD News Live TV (News + Entertainment)

महाराजा के लिए ऑफर: एयर इंडिया के लिए टाटा ग्रुप की बोली स्पाइसजेट के प्रमोटर से ज्यादा, बिडिंग के मौजूदा दौर में टाटा संस की स्थिति काफी मजबूत


  • Hindi News
  • Business
  • Tata Son’s Bid For Air India Is More Than SpiceJet Promoter, Company Strong In The Initial Phase

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • कोविड की दूसरी लहर के बीच उड़ानें रद्द हो रही हैं और लोड फैक्टर भी घट गया है, इसलिए एयर इंडिया के कैश फ्लो और वैल्यूएशन में आ रही है कमी
  • टाटा संस कंपनी का वैल्यूएशन घटाने के बारे में सोच रही है, एयर इंडिया की बैलेंसशीट पर पड़े कर्ज का बड़ा हिस्सा सरकार को उठाने के लिए कह सकती है

एयर इंडिया के लिए चल रही बोली के शुरुआती दौर में टाटा ग्रुप की होल्डिंग कंपनी टाटा संस ने स्पाइसजेट के प्रमोटर अजय सिंह से ज्यादा का ऑफर दिया है। सरकार अपनी एयरलाइन कंपनी को अगले मार्च में खत्म होने वाले मौजूदा वित्त वर्ष ही में बेच देना चाहती है। लेकिन, कोविड के चलते ड्यू डिलिजेंस जैसे कई काम टलने से बिक्री प्रक्रिया पूरी होने में कुछ महीने देर हो सकती है।

कंपनी के कैश फ्लो और वैल्यूएशन में आ रही कमी

जानकारों के मुताबिक, सरकारी एयरलाइन कंपनी के वास्ते चल रही बोली के मौजूदा दौर में टाटा संस काफी मजबूत स्थिति में है। कोविड की दूसरी लहर के बीच एयर इंडिया की उड़ानें रद्द हो रही हैं और इसका लोड फैक्टर भी घट गया है। इसकी वजह से कंपनी के कैश फ्लो और वैल्यूएशन में कमी आ रही है।

देखा जाएगा एयरलाइन कारोबार चलाने का अनुभव

जानकारों के मुताबिक बोली में शामिल होने वाली कंपनी में कई चीजें देखी जाएंगी। जैसे कि उसके पास एयरलाइन कारोबार चलाने का कितने साल का अनुभव है। कितने प्लेन के बेड़े को संभाल चुकी है और कितने देशों के लिए उड़ान सेवा दिए हैं। कंपनी का लीडरशिप स्ट्रक्चर, ब्रांड और गुडविल कैसा है। नॉन कोर एसेट के मैनेजमेंट में कितनी महारत हासिल है। रिटायरमेंट और पेंशन बेनेफिट मैनेज करने का कितना अनुभव है। स्टाफ को हैंडल करने की कितनी क्षमता है।

बिडर टाल सकते हैं रियल एस्टेट प्रॉपर्टी का निरीक्षण

कंपनी के बिकने की प्रक्रिया पूरा होने में देरी हो सकती है। खरीदार कंपनी की रियल एस्टेट प्रॉपर्टी को जाकर देखना चाहेंगे। लेकिन कोविड के चलते यह कुछ समय के लिए मुमकिन नहीं हो पाएगा। यह बात बुधवार को दीपम (डिपार्टमेंट ऑफ इनवेस्टमेंट एंड पब्लिक एसेट मैनेजमेंट) के सचिव तूहीन कांत पांडे ने कही थी। दीपम कंपनी का विनिवेश कार्यक्रम देखने वाली नोडल एजेंसी है।

विनिवेश वित्त वर्ष की पहली छमाही में पूरा करने का लक्ष्य

पांडे ने कहा था कि सरकार ने एयर इंडिया का विनिवेश इस वित्त वर्ष की पहली छमाही में पूरा करने का लक्ष्य रखा है, लेकिन इसमें थोड़ी देरी हो सकती है। मीडिया में आई कुछ खबरों के मुताबिक, एयर इंडिया के लिए टाटा ग्रुप और स्पाइसजेट के सीएमडी अजय सिंह को निजी हैसियत से बोली लगाने के लिए शॉर्टलिस्ट किया गया है।

कंपनी का वैल्यूएशन घटाने के बारे में सोच रही टाटा संस

कोविड का सबसे ज्यादा असर जिन उद्योगों पर हुआ है, उनमें से एक एयरलाइन इंडस्ट्री भी है। कोविड के बढ़ते संक्रमण के लिए लोगों ने फ्लाइट लेना कम कर दिया है। ऐसे में टाटा संस कंपनी का वैल्यूएशन घटाने के बारे में सोच रही है। वह कंपनी की बैलेंसशीट पर पड़े कर्ज का बड़ा हिस्सा सरकार को उठाने के लिए भी कह सकती है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Leave a Reply