Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008
Tuesday, May 11

Please Play for Watching SD News Live TV (News + Entertainment)

45+ का वैक्सीनेशन जारी रखेगा केंद्र, 18+ के लिए बढ़ाया जा रहा है प्रोडक्शन


वैक्सीन की कमी पर केंद्र ने दी जानकारी. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वैक्सीन की कमी पर मंत्रालय ने कहा-हम वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं. सरकार उत्पादक कंपनियों के साथ लगातार संपर्क में बनी हुई है. कल से शुरू हो रहा है वैक्सीनेशन शुरुआती कुछ दिन धीमा रह सकता है लेकिन जल्द ही रफ्तार पकड़ लेगा.

नई दिल्ली. वैक्सीन की कमी को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को बयान जारी कर जानकारी दी है. मंत्रालय ने कहा है कि 45+ वालों का वैक्सीनेशन 1 मई के बाद भी पूर्ववत जारी रहेगा. वैक्सीन की कमी पर मंत्रालय ने कहा-हम वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं. सरकार उत्पादक कंपनियों के साथ लगातार संपर्क में बनी हुई है. कल से शुरू हो रहा है वैक्सीनेशन शुरुआती कुछ दिन धीमा रह सकता है लेकिन जल्द ही रफ्तार पकड़ लेगा. जो राज्य उत्पादकों से वैक्सीन हासिल कर सकते हैं वो कल से 18+ वालों का वैक्सीनेशन भी शुरू कर सकते हैं. इससे पहले कोविन ऐप चीफ आरएस शर्मा ने कहा है कि अब 18 से 44 उम्र समूह के लोगों के पास प्राइवेट सेंटर पर वैक्सीन चुनने का विकल्प मौजूद होगा. शर्मा ने यह स्पष्ट किया है कि वैक्सीन चुनने का विकल्प अब भी सिर्फ प्राइवेट सेंटर पर ही मौजूद होगा. वो कहते हैं-सरकारी सेंटर्स पर अब भी उपलब्ध वैक्सीन के हिसाब से ही वैक्सीनेशन किया जाएगा. साथ ही इस बात का विशेष खयाल भी रखना होगा कि दूसरा डोज भी उसी वैक्सीन का लें जिसका पहला डोज लिया है. वहीं प्राइवेट सेंटर्स को ये बताना होगा कि उनके पास कौन सी वैक्सीन मौजूद है और उसका रेट क्या है. कोविन ऐप पर प्राइवेट सेंटर्स पर मौजूद वैक्सीन और उसकी कीमत प्रदर्शित की जाएगी. स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा है कि कोरोना से 50 फीसदी मौतें तीन राज्यों में दर्ज की जा रही हैं. ये राज्य दिल्ली, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कर्नाटक, केरल, बंगाल, तमिलनाडु, गोवा, ओडिशा में ना केवल कोरोना चरम पर है, बल्कि वहां कोविड-19 के मामलों में भी बढ़ोतरी का ग्राफ ऊपर की तरफ है. वहीं, कोविड-19 की दूसरी लहर राजस्थान, उत्तर प्रदेश में पिछले वर्ष की तुलना में पांच गुना ज्यादा चरम पर, छत्तीसगढ़ में 4.5 गुना और दिल्ली में 3.3 गुना ज्यादा है.







Source link

Leave a Reply