Domain Regd. ID: D414400000 002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008
January 21, 2021

Sachcha Dost

A PART OF SACHCHA DOST NEWS ENTERTAINMENT OPC PVT. LTD.

एक दिसम्बर को पूरे विश्व में मनाया जाएगा विश्व एड्स दिवस

सह.सम्पादक अतुल जैन की रिपोर्ट


शिवपुरी। 
विश्व एड्स दिवस 01 दिसम्बर को पूरे विश्व में मनाया जाना है। इस मौके पर जिला चिकित्सालय शिवपुरी स्थित ए.एन.एम. ट्रेनिंग सेन्टर में  कार्यशाला का आयोजन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.ए.एल.शर्मा की अध्यक्षता में किया गया है।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.ए.एल.शर्मा के द्वारा शिवपुरी जिले में एच.आई.वी. जांच के लिए 21 एफ.आई.सी.टी.सी. केन्द्र स्थापित किये गये हैं जिन पर प्रत्येक गर्भवती महिला एवं हाई रिस्क केस एवं टी.बी. के संभावित मरीजों की एच.आई.वी. जांच होल ब्लड एच.आई.वी. टेस्ट किट से की जाती है। शिवपुरी जिले में सामूदायिक स्वास्थ्य केन्द्र करैरा तथा जिला चिकित्सालय में आई.सी.टी.सी. (एकीकृत जांच एवं परामर्श केन्द्र) केन्द्र की स्थापना की गई है। जांच में पोजीटिव होने पर आई.सी.टी.सी. केन्द्रों में कन्फर्मेट्री जांच की जाती है। जिले में टी.बी. अस्पताल में ए.आर.टी.केन्द्र संचालित है। ऐसे केवल 18 केन्द्र मध्यप्रदेश में हैं। ए.आर.टी. केन्द्र में एच.आई.वी. पोजीटिव व्यक्ति की पूरी जांचे जैसे सी.डी. फोर टेस्ट, वायरल लोड टेस्ट किये जाते हैं, जिससे इन दवाओं का एच.आई.वी. वायरस पर किस प्रकार असर हो रहा है तथा मरीज को कितना आराम है इसका पता चलता है। ए.आर.टी. दवा न लेने पर एच.आई.वी. पोजीटिव को 8-10 साल के बाद एड्स बीमारी हो जाती है लेकिन अगर वो ए.आर.टी. दवाई लेता रहता है तो उसका वायरल लोड कम रहता है और वह 25-30 साल तक सामान्य जीवन जी सकता है।
नोडल अधिकारी ए.आर.टी. केन्द्र डॉ. आशीष व्यास ने बताया कि वर्तमान में 1363 एच.आई.वी. पोजीटिव ए.आर.टी. केन्द्र शिवपुरी से दवा प्राप्त कर रहे हैं। इसमें कुछ मरीज सेकेण्ड लाईन की दवा भी ले रहे हैं। शिवपुरी में गुना, अशोकनगर एवं श्योपुर के एच.आई.वी. पोजीटिव भी दर्ज होते हैं और दवा प्राप्त करते हैं।
जिला नोडल अधिकारी एड्स डॉ. व्यास ने बताया कि शिवपुरी जिला चिकित्सालय में वर्ष 2002 में आई.सी.टी.सी.केन्द्र की स्थापना के बाद से जिले में अभी तक 1,67,146 व्यक्तियों की एच.आई.वी. जांच की गई है जिसमें से 810 पोजीटिव पाये गये हैं। मध्यप्रदेश में वर्ष 2005 से अक्टूबर 2020 तक 10703019 मरीजों की एच.आई.वी जांच की गई जिनमें से 69400 पोजीटिव पाये गये। इसप्रकार मध्यप्रदेश में एच.आई.वी. की पोजीटिविटी रेट 0.65 है। शिवपुरी जिले में वर्ष 2005 से अक्टूबर 2020 तक 230438 एच.आई. वी जांचें हुई जिनमें से 831 पोजीटिव पाये गये। जिले की पोजीटिविटी रेट 0.36 है।
डॉ. आशीष व्यास ने बताया कि एच.आई.वी. का वायरस छूने से, हाथ मिलाने से, चूमने से एक दूसरे के कपड़े इस्तेमाल करने से नहीं फैलता। इसके फैलने के चार कारण होते हैं जैसे असुरक्षित यौन संपर्क, नशे की सुई का इस्तेमाल, एच.आई.वी. वायरस से संकमित रक्त का चढ़ाया जाना, संकमित गर्भवती महिला से उसके गर्भस्थ शिशु को। एच.आई.वी. पीड़ित व्यक्ति से समाज को भेदभाव रहित सामान्य व्यवहार का पालन किया जाना चाहिए और उनको समानता का अधिकार दिया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Copyright © All rights reserved. | Newsphere by AF themes.