Domain Registration ID: D414400000002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

सरपंच-सचिव ने ग्रामीणो को गुमराह कर भेज दिया रेतघाट हेतु फर्जी प्रस्ताव$$ ग्रामीणो ने समस्त आला अधिकारियों को ज्ञापन सौप जताई आपत्ति

सरपंच-सचिव ने ग्रामीणो को गुमराह कर भेज दिया रेतघाट हेतु फर्जी प्रस्ताव
ग्रामीणो ने समस्त आला अधिकारियों को ज्ञापन सौप जताई आपत्ति
(मामला- ग्राम पंचायत साल्हे में रेत खदान स्वीकृति का)
लालबर्रा-
ग्रामीणो को सुचित किये बगैर ग्राम पंचायत साल्हे मोहगांव सरपंच-सचिव द्वारा आर्थिक लाभ कमाने की मंषा से ग्रामीणो को गुमाराह कर अपने मनमानी तरीके से रेत खदान की स्वीकृति हेतु फर्जी प्रस्ताव बनाकर संबंधित विभाग को देने का मामला ग्राम पंचायत साल्हे मोहगांव का प्रकाष में आया है। जिसके विरोध में समस्त ग्रामीणों द्वारा स्थानीय प्रषासन से लेकर जिला प्रषासन तक ज्ञापन सौप उक्त रेतघाट को निरस्त कर संबंधित सरपंच-सचिव पर वैधानिक कार्यवाही की मांग की है। इसी कड़ी में 24 सितम्बर को जनपद पचायत सहित अन्य विभागो में ज्ञापन सौपा गया।

SD TV (JAIN TV)


ज्ञापन सौपने के पष्चात ग्रामीणों ने बताया कि 26 जनवरी 2019 को आयोजित ग्रामसभा में महज 31 व्यक्ति ही उपस्थित हो पाये थे, जिनके समक्ष फोरम के अभाव में किसी भी प्रकार का कोई प्रस्ताव नही रखा गया और नाहि नही लिया गया, बावजूद इसके सरपंच श्रीमती धनवंता नगपुरे व सचिव हुकुमचंद रहांगडाले द्वारा ग्रामसभा में उपस्थित 31 ग्रामीणो के हस्ताक्षर को आधार बनाकर मनरेगा में कार्यरत मजदूरो के फर्जी तरीके से हस्ताक्षर लेकर रेतघाट हेतु प्रस्ताव पारित कर उसे रेत घाट की स्वीकृति हेतु लगा हिया गया, जो पूर्णतः 420 के तहत व मनमानी तरीके का है। ग्रामीणो ने बताया कि सरपंच-सचिव द्वारा ग्रामीणो को धमकाया जा रहा है, जिससे ग्रामीणो में आक्रोष पनप रहा है, जो कभी भी जनहानि को जन्म दे सकता है। ग्रामीणो ने बताया कि यदि उक्त मामले में संबंधित सरपंच-सचिव पर कार्यवाही नही की जाती तो ग्रामवासियों द्वारा आगामी समस्त चुनावो का बहिस्कार किया जायेगा, जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी शासन-प्रषासन की होगी।
इन्होने सौपा ज्ञापन
रेत नीलामी को रोके जाने हेतु जिला व स्थानीय प्रषासन से ज्ञापन सौप मांग करने वाले में सर्व समिति ग्राम अध्यक्ष प्रेमलाल पटले, उपाध्यक्ष दीपचंद नगपुरे, कोषाध्यक्ष रावतमल पटले, संचालक राजेन्द्र राउत, सदस्य धनेन्द्र नगपुरे, प्रदेष पटले, अनिल उके, षिवचंद नगपुरे, गौतम लिल्हारे, ब्रजेष नगपुरे, अषोक चैनलाल पटले, माधवलाल बरैया, तुलाराम नगपुरे, अनिल पटले, मुकेष नगपुरे, धनेन्द्र बागड़े, विष्णु बट्टेवार, सिध्दार्थ गोडाने, रविन्द्र उके, प्रभुलाल कटरे, रामदास बारमाटे, परदेषी भालेकर, दादुलाल उइके, चेतनलाल पटले, टीकाराम उइके, अंकित गौतम, घनष्याम नगपुरे, षिवप्रसाद नगपुरे, विषाल दमाहे, रविन्द्र पटले, विवेकानंद उके, अरविंद नगपुरे, लाखन गोंडाने प्रवीण गुर्जर, बाबलूलाल पटले, बेनीराम धनेन्द्र कटरे, आषाराम पटले, नरेन्द्र कटरे, आषाराम पटले, देवेन्द्र नगपुरे, राजेष कटरे, सहेजराम बघेले सहित अन्य ग्रामीणजन शामिल है।
इनका कहना है-
ज्ञापन लेते वक्त खण्ड पंचायत अधिकारी ने ग्रामीणो को तीन दिन पश्चात जांच टीम गठित कर उक्त मामले की कार्यवाही करने का आषवस्त किया।
000000000000000000000000
सरकार एवं ग्रामीणो को किया गया गुमराह- धनेन्द्र
सरपंच-सचिव ने गणतंत्र दिवस 2019 को आयोजित ग्रामसभा को आधार बनाकर फर्जी तरीके से गुमराह कर मनरेगा में कार्यरत मजदूरो के हस्ताक्षर लेकर प्रस्ताव पारित करवा रेतघाट स्वीकृत करवा लिया, जो पूर्णतः गलत है। राजस्व विभाग द्वारा जब सत्यापन किया गया तो पाया कि वह स्थान रेतघाट के पर्याप्त नही है, बावजूद इसके सरपंच-सचिव ने शासन-प्रषासन व ग्रामीणो को गुमराह कर सरकार व प्रकृति को धोका दिया है। हमारी मांग है, कि उक्त पदाधिकारियों पर धोकाधड़ी का मामला पंजीबध्द कर वैधानिक कार्यवाही करे।
धनेन्द्र नगपुरे
ग्रामीण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *