Domain Registration ID: D414400000002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008

देश के बैंक बर्बाद,सरकारी कंपनियां बिक रही फिर क्यों उद्योगपतियों के अरबों करोड़ों का कर्ज माफ -विशाल

देश के बैंक बर्बाद,सरकारी कंपनियां बिक रही फिर क्यों उद्योगपतियों के अरबों करोड़ों का कर्ज माफ -विशाल
लालबर्रा-
क्या जिला कांग्रेस कमेटी प्रवक्ता विशाल बिसेन ने जतारी व्यक्तत्व में केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र की भाजपा सरकार वाकई में देश को बेच रही है, भाजपा सरकार ने अभी तक उद्योगपतियों के छः लाख करोड़ रुपए माफ सब आसानी से हो रहा है, श्री बिसेन ने कहा कि हाल ही में भाजपा सरकार ने मेहुल चैकसी समेत 50 व्यापारी मित्रों के अड़सठ हजार करोड़ रुपये माफ कर दिए. जबकि कुछ दिनों पूर्व कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने संसद में पूछा था कि मुझे देश के 50 बड़े डिफाल्टर लोगों के नाम बताइए लेकिन वित्त मंत्री ने जवाब देने से ही मना कर दिया था और अचानक यह सामने आया कि इनके लोन माफ किये जा चुके है। यह बड़ा सवाल है कि घाटे और इन उद्योगपतियों से वसूली नही होने की वजह से आये दिन देश के बैंक बर्बाद हो रहे है।

आज भाजपा सरकार उद्योगपतियों और पूंजीवादियों के हाथों बिक चुकी है। जहां देश में किसानों को बिजली के बिल जमा नहीं कराने जाने पर जेल होती है। बैंकों का लोन जमा नहीं कराए जाने पर उनके घरों की नीलामी होती है, वहां भाजपा लगातार उद्योगपति मित्रों के हजारों लाखों करोड़ों रुपये माफ कर रही है। आज कोरोना संकट में केंद्र सरकार इस महामारी से लड़ने के लिए देशभक्ति याद दिलाकर देशवासियों से सहयोग मांग रही है, दान मांग रही है और भावनात्मक देश के लोग सरकार पर भरोसा करके बेहिचक करोड़ो रुपए दान भी दे रहे हैं, लेकिन भाजपा सरकार द्वारा उद्योगपतियों के बैंक के अरबों रुपये के लोन माफ करना क्या इन देशवासियों के साथ धोखा नहीं है। एक सवाल और कि भाजपा सरकार ने देश में पूंजी जुटाने के नाम पर देश के एयरपोर्ट,देश के बंदरगाह, इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम, भारतीय शिप एजेंसी, भारतीय अर्थ मूवर्स जैसी 74 सरकारी कंपनियों को पिछले दिनों बेच दिया गया। भारतीय जीवन बीमा निगम जिस पर देशवासी सबसे ज्यादा भरोसा करते थे, गैर सरकारी हाथो में सौपा जा रहा है। इंडियन एयरलाइंस बिकवाली को तैयार है। भारतीय रेल को प्राइवेट हाथों में सौंपने की शुरुआत हो चुकी है। जब देश का सब कुछ बिक रहा है, फिर इन मित्र उद्योगपतियों के अरबों रुपये माफ क्यों।
श्री बिसेन ने कहा कि इस भाजपा सरकार में उद्योगपतियों के अरबों रुपए माफ करने के लिए देश के किसानों की आड़ भी ली है। देश के किसानों को बरगलाने के लिए किसानों को दो हजार रुपये की सम्मान निधि की घोषणा करी जिससे देश के किसान भी चुप रहे कि उन्हें कुछ न कुछ मिल रहा है। जबकि यह सिर्फ एक ढ़कोसला है, किसानों के साथ धोखा है, देशवासियों के साथ धोखा है। देश की मीडिया और न्याय तंत्र को केंद्र सरकार ने पैसों के दम पर या यूं कहे की ताकत के दम पर खरीद रखा है, अन्यथा तो उद्योगपतियों के लोन माफ किये जाने की यह जानकारी बहुत पहले सामने आ जानी थी जो अभी सूचना के अधिकार में सामने आई है। भाजपा सरकार के ऐसे काम आसानी से होते रहे इसके लिए देश के लोगों को ध्यान भटकाने के लिए हमेशा धर्म-जाति-सांप्रदायिकता के मामलों को बढ़ावा देती है जिससे लोगों का ध्यान भटक वह भावनात्मक रूप से बहते रहे और भाजपा सरकार उद्योगपति मित्रों का अरबों करोड़ों के लोग माफ करती रहे। जिससे उनके नेताओं का उनकी पार्टी का काम चलता रहे। मैं फिर कह रहा हूं कि अरबों करोड़ों पर माफ करना कोई आसान खेल नहीं है।सरकारें कभी यूँही बैंको के इतने लोन माफ नहीं किया करती।निश्चित है कि इसके अंदर भी बहुत बड़ा लेनदेन होना स्वाभाविक है। लोग राहुल गांधी को कुछ भी कहे लेकिन राहुल गांधी ने यह साबित किया कि ये नेता देश के प्रति वफादार हैं, देश की सच्ची बात करने वाले नेता है। कोरोना वायरस का मामला हो चाहे विलफुल डिफॉल्टर का मामला हो राहुल गांधी ने साबित किया है, कि वे देश की चिंता करने वाला और ईमानदार नेता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *