Domain Registration ID: D414400000002908407-IN Editor - vinayak Ashok Jain (Luniya) 8109913008
Atul Jain April 29, 2020

सह.सम्पादक अतुल जैन की रिपोर्ट



शिवपुरी। नगर के श्री 1008 पारसनाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र ;छतरी मंदिरद्ध में विराजमान मुनि श्री 108 सुव्रत सागर जी महाराज कोरोना के चलते मंदिर में अपनी सारी क्रियाओं को करते हुए धर्म साधना करते हैं परंतु इस समय सामूहिक रूप से स्वाध्याय और प्रवचन आदि सभी बंद है इसी बीच में जितने भी त्यौहार आए भी सभी लोगों ने अपने अपने घरों में ही मनाएं इसी के चलते मुनि श्री का 22 वां दीक्षा दिवस कल दिनांक 30ध्4ध् 2020 को को गुरुवार के दिन वैशाख शुक्ल सप्तमी पर पड़ रहा है इस अवसर पर मुनि श्री ने समाज जनों से भक्त गणों से अपने संदेश में यही कहा है कि आप सभी लोग अपने घरों पर रहकर कोरोनावायरस से बचने के लिए घर में रह कर भक्ति अर्चना करें और लॉक डाउन का पालन करें लेकिन सामूहिक रूप से भीड़ एकत्रित ना करते हुए दीक्षा दिवस  बड़ी धूमधाम से इस तरह से मनाएं कि आपके साथ मुनि श्री है और आप सभी को हमारा गुरु जी का आशीर्वाद सदा सर्वदा है हम आपके साथ हमेशा हैं हमेशा थे और हमेशा ही रहेंगे ऐसा विश्वास कर दीक्षा दिवस मनाए और कोरोनावायरस में देश की विश्व की मदद करें इस अवसर पर मुनि श्री ने किसी भी प्रकार के कोई भी सामूहिक कार्यक्रम करने की किसी को भी अनुमति नहीं दी है वह अपने कक्ष में साधना रहते हुए अपने लेखन पाठक ज्ञान में लगे रहते हैं सिर्फ आहार चर्या में ही निकलते हैं मुनि श्री का यह कहना है की रत्नात्रय का व्यापार करो संयम की दुकानें खोलो आज मनाओ मुनियों का दीक्षा दिवस और अपनी दीक्षा होने का इंतजार करो लॉक डाउन के चलते मुनि श्री प्रतिदिन एक कोरोनावायरस के लिए मुक्ति पाने के लिए देश को समाज को जागरूक करने के लिए और कोरोना से लडऩे के लिए गीत कविता गजल भजन इत्यादि के माध्यम से लोगों को जागरूक करने के लिए प्रयासरत हैं मुनि श्री के भक्त गण उनकी कविताओं को लेकर सोशल साइट पर वायरल करते हैं जिससे लोगों को घर बैठे ही मुनि श्री का संदेश उपदेश प्राप्त हो जाता है और परोक्ष में मुनि श्री से मिलने का अवसर प्राप्त हो जाता है आपको बता दें कि मुनि श्री ने लगभग 35 40 कविताएं कोरोना से लडऩे हेतु लिखी है और अभी भी उनकी लेखनी प्रतिदिन चलती ही रहती है मुनि श्री ने 22 अप्रैल दो 1999 में परम पूज्य आचार्य गुरुवर श्री विद्यासागर जी महाराज के कर कमलों से सिद्ध क्षेत्र नेमावर इंदौर में देवास में 23 दिशाओं में दीक्षा ली थी उनके 21 वर्ष पूरे हो चुके हैं और तिथि के अनुसार कल से उनका 22 वां वर्ष प्रारंभ होगा मुनि श्री ने 21 वर्षों में साधना करते हुए हर वर्ग के व्यक्तियों को धर्म से जोडऩे का प्रयास किया है और अपनी लेखनी के माध्यम से जैन वांग्मय को अनूठी कृतियां देने का प्रयास भी किया है मुनि श्री इस अवधि में लगभग पचासी से 90 कृतियों की संयोजना कर चुके हैं उनकी लेखनी निरंतर चलती रहती है और लॉक डाउन में एकांत मिलने से सामूहिक कार्यक्रम नहीं होने से लेखनी कुछ ज्यादा गतिशील हो गई है और इस अवसर पर मुनि श्री ने यही कहा कि आज सभी लोगों की आवश्यकताएं पूर्ति हो रही है लेकिन इच्छाओं पर नियंत्रण हो चुका है बस इसी तरह से दिगंबर साधु अपनी चरिया का पालन करता है आवश्यकताओं की पूर्ति करता हुआ और इच्छाओं पर नियंत्रण अंकुश लगाकर संयम का पालन करता हुआ हमेशा अपने ऊपर लॉक डाउनलोड आकर ही जीता है लोगों के दिलों पर राज करने के लिए 2 तरीके होते हैं या तो सिकंदर बनकर या दिगंबर बनकर सिकंदर बनकर कुछ ही दिनों तक राज किया जा सकता है परंतु दिगंबर अनादि से अनंत काल तक लोगों के दिलों पर राज किया जा सकता है मुनि लोग सिकंदर बनने के पक्ष में नहीं रहती मुनि लोग दिगंबर बनकर लोगों के हृदय में निवास करते हैं इसलिए उन पर यह पंक्तियां सार्थक होती है
हे मुनिवर यह हुनर कहां से सीख लिया।
कोई भी लड़ाई नहीं और सबका दिल जीत लिया।।
मुनि श्री ने यही कहा कि विश्व में अगर सभी लोग आवश्यकताओं की पूर्ति में लगे रहे इच्छाओं पर नियंत्रण रखें रहे तो कोरोनावायरस के संक्रमण से बच सकता है आज कोरोना के कारण सारे विश्व की जरिया दिगंबर साधु ऐसी हो रही है यह एक मजबूरी है स्वेच्छा नहीं लेकिन अगर स्वेच्छा से लोग करना प्रारंभ कर दें ऐसे संकट विश्व में कभी नहीं आएंगे ऐसे संकटों से बचने के लिए दिगंबर साधु के लिए गए सिद्धांतों को अपने जीवन में अपनाने के भाव हम सभी को रखने चाहिए अगर दिगंबर साधुओं के सिद्धांत हमने अपने होते अहिंसा परमो धर्म के सूत्र होते तो आज विश्व पर यह महामारी का आक्रमण नहीं होता इस महामारी ने सारे विश्व को अहिंसा से सादगी से सादगी से जीना सिखा दिया है इस काम को संत महंत धर्म ग्रंथ धर्मात्मा नहीं कर पाए उस काम को कोरोना ने महज कुछ ही दिनों में कर दिया इसलिए संत लोगों का यही कहना है किए जियो और जीने दोए का सिद्धांत कभी ना भूले यही परम दीक्षा दिवस मनाना होगा यही अहिंसा धर्म का सिद्धांत होगा उन्होंने ऐसा संदेश हम सभी को दिया।

SD TV (JAIN TV)

SD TV (MOVIE & ENTERTAINMENT)

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*