गुरू पूर्णिमा महोत्सव के उपलक्ष में संस्कार भारती आजाद इकाई झाबआ ने दो गुरूजनों का किया भव्य अभिनंदन, वार्षिक बैठक का हुआ आयोजन, नवीन कार्यकारिणी की हुई घोषणा

गुरू पूर्णिमा महोत्सव के उपलक्ष में संस्कार भारती आजाद इकाई झाबआ ने दो गुरूजनों का किया भव्य अभिनंदन, वार्षिक बैठक का हुआ आयोजन, नवीन कार्यकारिणी की हुई घोषणा


झाबुआ। संस्कार भारती आजाद इकाई झाबुआ द्वारा गुरू पूर्णिमा महोत्सव शहर के समीपस्थ ग्राम धरमपुरी स्थित षिवगंगा आश्रम पर मनाया गया। इस अवसर पर मुख्य रूप से संस्था की वार्षिक बैठक के बाद दो गुरूजनों का विषेष अभिनंदन के अतिरिक्त संस्था की नवीन कार्यकारिणी की घोषणा की गई।
यह आयोजन 10 जुलाई, बुधवार को दो सत्रों में हुआ। प्रथम सत्र में दोपहर 2 से 3 बजे तक संस्कार भारती की वार्षिक बैठक हुई। जिसमें सामूहिक ध्येय गीत प्रस्तुत किया गया। मुख्य अतिथि संस्कार भारती की प्रांत उपाध्यक्ष अंजलि चौहान का स्वागत दुपट्टा पहनाकर एवं श्रील भेंटकर कर किया गया। स्वागत गीत स्मृति भट्ट ने प्रस्तुत किया। बाद स्वागत भाषण दिया गया। इकाई के वार्षिक प्रतिवदेन में आय-व्यय एवं वर्षभर की गई गतिविधियों की जानकारी संस्था की कोषाध्यक्ष श्रीमती शारदा कुमावत ने दी।


अध्यक्ष पुनः भारती सोनी को बनाया गया
नवीन कार्यकिरणी की घोषणा के क्रम में अध्यक्ष की घोषणा प्रांत उपाध्यक्ष अंजलि चौहान ने की। अध्यक्ष पुनः श्रीमती भारती सोनी को बनाया गया। बाद श्रीमती सोनी ने पदाधिकारी एवं संपूर्ण कार्यकारिणी की घोषणा की। इस अवसर पर संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि श्रीमती अंजलि चौहान ने बताया कि संस्कार भारती का उद्देष्य बच्चों में संस्कारों का बीजारोपण करने के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में कलाओं को प्रोत्साहन देना है। नवीन कार्यकारिणी भी इसी क्षेत्र में पूरे उत्साह के साथ एक बार फिर कार्य करेगी, यह मेरी आषा है।


नाट्य मंचन किया गया
दूसरे सत्र में गुरूजनों का सम्मान समारोह का आयोजन हुआ। गुरूवंदन से समारोह की शुरूआत हुइ्र्र। दीप प्रज्जवलन अतिथि पद्मश्री से सम्मानित षिवगंगा के प्रमुख महेष शर्मा एवं जिले की योग गुरू सुश्री रूक्मणी वर्मा ने किया। राग दरबारी की प्रस्तुति निहाली चौहान ने दी। श्रीमती अन्नू भाबोर एवं उनके सहयोगियों ने लोक भीली भाषा में नाट्य मंचन किया।


इनका हुआ सम्मान
संस्कार भारती आजाद की ओर से दो गुरूजनों के सम्मान में पद्म श्री महेश शर्मा एवं योग गुरू सुश्री रूक्मणी वर्मा का सम्मान शाल ओढ़ाकर श्रीफल भेंटकर एवं अभिनंदन-पत्र देकर किया गया। सम्मान-पत्र का वाचन प्रदीप अरोरा पीकू ने किया। समारोह का संचालन जयेन्द्र बैरागी ने किया एवं आभार संस्था के संरक्षक उमंग सक्सेना ने माना।


राष्ट्रीय गीत के साथ हुआ समापन
इस अवसर पर संस्था के अन्य संरक्षक में नीरजसिंह राठौर, राजेष मेहता, श्रीमती मधु व्यास, ज्योति रांका, सुनिता बाबेल, कल्पना सकलेचा, ललित शाह, महावीर मौन्नत, एमएल फुलपगारे, ज्योति त्रिवेदी, मंजु मिस्त्री, श्रद्धा जैन, रेणु कछावा के साथ करीब 70 सदस्यों की उपस्थिति रही। समापन पर सामूहिक रूप से राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम् का गान किया गया।


फोटो 014 -ः संस्कार भारती आजाद इकाई्र झाबुआ ने सम्मान समारोह में दो गुरूजनों का भावभरा अभिनंदन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *