आयुक्त ने की ग्रामीण व शहरी तथा स्थानीय निकायो मे स्थापित गौ आश्रय केन्द्रो की गहन समीक्षा

आयुक्त ने की ग्रामीण व शहरी तथा स्थानीय निकायों में अस्थाई गोवंश आश्रय स्थलों तथा वृृहद गौ संरक्षण केन्द्रों की स्थापना की गहन समीक्षा

सड़कों पर पड़ने वाली ग्राम पंचायतों में खोले जायं गौवंश आश्रय स्थल-आयुक्त श्री महेन्द्र कुमार

आयुक्त देवीपाटन मण्डल श्री महेन्द्र कुमार ने मण्डल के सभी उपायुक्त मनरेगा को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है कि वे ऐसी सभी ग्राम पंचायतें जो सड़कों पर पड़ती हैं, उनमें गौवंश आश्रय स्थल 15 दिनों के अन्दर खोलवाएं जिससे छुट््टा जानवरों को उनमें रखा जा सके और इनसे सड़कों पर होने वाली दुर्घटनाओं को रोका जा सके। उन्होने इस आदेश का शत-प्रतिशत अनुपालन सुनिश्चित करते हुए यह भी निर्देश दिए हैं कि सभी मुख्य पशु चिकित्साधिकारियों को तीन दिन के भीतर ऐसे गांवों की सूची उपलब्ध करा दी जाए।
मण्डलायुक्त ने आयुक्त सभागार में ग्रामीण व शहरी तथा स्थानीय निकायों में अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल की स्थापना व संचालन नीति में आ रही कठिनाइयों के निवारण एवं वृहद गौ संरक्षण केन्द्रों की स्थापना हेतु स्वीकृत धनराशि से निर्मित वृहद गौ संरक्षण केन्द्रों की अद्यतन प्रगति की मण्डलीय समीक्षा बैठक में मण्डल के सभी जिलाधिकारियों व मुख्य विकास अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे अपने यहां बैठक कर इसकी विस्तृत एवं गहन समीक्षा कर लें और बैठक की कार्यवृत्त उन्हें उपलब्ध कराएं। बैठक में आयुक्त ने निर्देशित किया कि अपूर्ण वृहद गौ संरक्षण केन्द्रों से सम्बन्धित कार्यदाई संस्थाएं इनमें जो भी कार्य शेष रह गए हैं उन्हें अतिशीघ्र पूर्ण कराएं ताकि केन्द्र की क्षमता के अुनसार पशु उसमें रखे जा सकें।
बैठक में आयुक्त ने डीएम श्रावस्ती द्वारा जनपद के प्रत्येक गौशालाओं के लिए नोडल अधिकारियों की तैनाती कर उनके द्वारा प्राप्त निरीक्षण आख्या की प्रत्येक सोमवार को स्वयं समीक्षा कर कार्यवाही किए जाने के कार्य की सराहना करते हुए कहा कि मण्डल के किसी भी जनपद में जो अच्छा कार्य हो रहा है, उसे अन्य जनपदों में भी अपनाया जाय। उन्होंने वृहद गौ आश्रय स्थलों के निर्माण में कमियां पाए जाने के दृृष्टिगत निर्देशित किया है कि इनका निर्माण गुणवत्तापूर्ण ढंग से किया जाय और उनकी क्षमता के अनुसार पशुओं को उनमें रखा जाय। यह भी सुनिश्चित किया जाय कि पशु इन आश्रय स्थलों में बिना किसी परेशानी के रह सकें। उन्होंने जनपद बलरामपुर व गोण्डा के गौ आश्रय स्थलों का निर्माण कार्य गुणवतापूर्ण न होने के दृष्टिगत उच्चाधिकारियों द्वारा किए गए निरीक्षणों का आख्या का विवरण भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कांजी हाउसों के निर्माण शेष रहने पर भी नाराजगी व्यक्त की तथा सम्बन्धित जिलाधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी से रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने जनपद बहराइच के रिसिया व नानपारा में इससे सम्बन्धित जांच लम्बित होने पर जिलाधिकारी बहराइच से रिपोर्ट मांगने के निर्देश दिए हैं कि अब तक उसमें क्या कार्यवाही हुई है। उन्होेंने कान्हा गौ आश्रय केन्द्रों केे निर्माण की प्रगति की समीक्षा की तथा लोगों की सुपुर्दगी में दिए जाने वाले पशुओं से सम्बन्धित आवदेन पत्र लक्ष्य के अनुरूप मांगकर सुपुर्दगी के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए हैं।
आयुक्त ने बैठक में ही विभिन्न गौ आश्रय स्थलों के निर्माण से सम्बन्धित फोटोग्राफ््स मंगवाकर उनका अवलोकन भी किया।
बैठक में संयुक्त विकास आयुक्त देवीपाटन मण्डल अनिल कुमार पाण्डेय, उपनिदेशक पशुपालन डा0 आर0पी0 यादव, सहित सभी जिलों के अपर मुख्य अधिकारी व मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, नगर पालिका व नगर पंचायतों के अधिशासी अधिकारी तथा कार्यदाई संस्थाओं के अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *