3 दिन में 1 हजार से अधिक शहरी एवं ग्रामीण लोगों ने किया आयुर्वेदिक काढ़े का सेवन तीन दिवसीय प्रतिबंधात्मक एवं उपचार षिविर का हुआ समापन

3 दिन में 1 हजार से अधिक शहरी एवं ग्रामीण लोगों ने किया आयुर्वेदिक काढ़े का सेवन
तीन दिवसीय प्रतिबंधात्मक एवं उपचार षिविर का हुआ समापन

झाबुआ। स्थानीय आॅफिसर्स काॅलोनी स्थित शासकीय आयुर्वेदिक चिकित्सालय परिसर में तीन दिवसीय प्रतिबंधात्मक एवं उपचार षिविर का 24 जनवरी, गुरूवार को समापन हुआ। अंतिम दिन 325 लोगों ने षिविर का लाभ लिया। इस प्रकार तीन दिनों में कुल 1052 लोगों ने आयुर्वेदिक काढ़े का सेवन कर षिविर को भव्य एवं सफल बनाया।
शिविर के तीसरे दिन शुभारंभ भगवान धन्वतरि के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जजवलन कर आसरा ट्रस्ट के सेवाभावी सदस्य सुधीर रूनवाल एवं महिला सदस्य श्रीमती मंजुला देराश्री ने किया। षिविर में पंजीयन कार्य पूर्व की तरह ही ओमप्रकाष राठौर एवं एचके पाठक ने किया। ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राजेष नागर ने बताया कि प्रथम दिन 312, द्वितीय दिवस 415 एवं तृतीय दिवस 325 लोगों ने अपना पंजीयन करवाया। इस बार षिविर में शहर सहित आसपास के क्षेत्रों, विषेषकर ग्रामीण अंचलों से महिला-पुरूष, युवाओं एवं स्कूली बच्चों ने भी पहुंचकर मौसमी बिमारियों से राहत के लिए काढ़े का सेवन किया। तीन दिवसीय षिविर में जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डाॅ. रमेष भायल एवं चिकित्सालय प्रभारी डाॅ. मीना भायल की विषेष सहभागिता रहीं।
चिकित्सकीय स्टाॅफ का रहा सराहनीय सहयोग
इसके अलावा तीन दिवसीय षिविर को सफल बनाने में आसरा ट्रस्ट के पदाधिकारी-सदस्यों के अलावा चिकित्सालय स्टाॅफ में डाॅ. दिपेषसिंह कठोता, डाॅ. राकेष खराड़ी, डाॅ. कैलाष पाटीदार, श्रीमती तययैबा यास्मीन, शाहिदा शेख, पूजा पाटीदार, संगीता कलसिंह, रेखा, दलसिंह आदि का रहा। षिविर के अंत में आभार चिकित्सालय प्रभारी डाॅ. मीना भायल एवं आसरा ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष राजेष नागर ने माना।


फोटो -ः तीसरे दिन षिविर का शुभारंभ आसरा ट्रस्ट के सेवाभावी सदस्य सुधीर रूनवाल ने किया।


फोटो -ः आसरा ट्रस्ट एवं आयुर्वेद चिकित्सालय की ओर से पिलाया गया आयुर्वेदिक काढ़ा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *